Home / Uncategorized / First Class

First Class

First Class

Movie/album: Kalank (2019)

Singers: Arijit Singh, Neeti Mohan

Song Lyricists: Amitabh Bhattacharya

Music Composer: Pritam Chakraborty

Music Director: Pritam Chakraborty

Director: Abhishek Varman

First Class

Mere hothon se dhuaandhaar nikalti hai jo boli
Jaise jaise bandook ki goli
Mere tevar mein hai tehzeeb ki rangeen rangoli
Jaise jaise ho eid me holi

Mere hothon se dhuaandhaar nikalti hai jo boli
Jaise jaise bandook ki goli
Mere tevar mein hai tehzeeb ki rangeen rangoli
Jaise jaise ho eid me holi

Mere jeevan ki dasha
Thoda raston ka nasha
Thodi manzil ki pyaas hai
Baaki sab first class hai
Baaki sab first class hai
Baaki sab first class hai
Haan kasam se
Baaki sab first class hai

Pal mein tola pal mein masha
Jaisi baazi waisa pasha
Apni thodi hattke duniyadaari hai
Karna kya hai chandi sona
Jitna paana utna khona
Hum toh dil ke dhande ke vyapari hain

Meri muskaan liye kabhi aati hai subah
Kabhi shamein udaas hai
Baaki sab first class hai
Baaki sab first class hai
Baaki sab first class hai
Haan kasam se
Baaki sab first class hai

Ho sabke hothon pe charcha tera
Bant’ta galiyon mein parcha tera
Yun toh aashiq hain laakhon magar
Sabse ooncha hai darjaa tera
Jeb mein ho athanni bhale
Chalta noton mein kharcha tera
Yun toh aashiq hain laakhon magar
Sabse ooncha hai darjaa tera
Sabse ooncha hai darjaa tera

Meri taareef se chhupti phire badnaamiyan meri
Jaise jaise ho aankh micholi
Mere tevar mein hai tehzeeb ki rangeen rangoli
Jaise jaise ho eid me holi

Mere jeevan ki dasha
Thoda raston ka nasha
Thodi manzil ki pyaas hai
Baaki sab first class hai
Baaki sab first class hai
Baaki sab first class hai
Haan kasam se
Baaki sab first class hai
Haan!.

Hindi Lyrics
मेरे होठों से धुआंधार निकलती है जो बोली
जैसे जैसे बंदूक की गोली
मेरे तेवर में है तहजीब की रंगीन रंगोली
जैसे जैसे हो ईद में होली
मेरे होठों से धुआंधार निकलती है जो बोली
जैसे जैसे बंदूक की गोली
मेरे तेवर में है तहजीब की रंगीन रंगोली
जैसे जैसे हो ईद में होली

मेरे जीवन की दशा
थोड़ा रास्तों का नशा
थोड़ी मंज़िल की प्यास है
बाकी सब फर्स्ट क्लास है
बाकी सब फर्स्ट क्लास है
बाकी सब फर्स्ट क्लास है
हाँ कसम से
बाकी सब फर्स्ट क्लास है

पल में तोला, पल में माशा
जैसी बाज़ी वैसा पाषा
अपनी थोड़ी हटके दुनियादारी है
करना क्या है चाँदी सोना
जितना पाना उतना खोना
हम तो दिल के धंधे के व्यापारी है

मेरी मुस्कान लिए कभी आती है सुबह
कभी शामें उदास है
बाकी सब फर्स्ट क्लास है
बाकी सब फर्स्ट क्लास है
बाकी सब फर्स्ट क्लास है
हाँ कसम से
बाकी सब फर्स्ट क्लास है

हो सबके होठों पे चर्चा तेरा
बंटता गलियों में पर्चा तेरा
यूँ तो आशिक़ हैं लाखों मगर
सबसे ऊंचा है दर्जा तेरा
जेब में हो अठन्नी भले
चलता नोटों में खर्चा तेरा
यूँ तो आशिक़ हैं लाखों मगर
सबसे ऊंचा है दर्जा तेरा
सबसे ऊंचा है दर्जा तेरा

मेरी तारीफ से छुपती फिरे बदनामियाँ मेरी
जैसे जैसे हो आँख मिचौली
मेरे तेवर में है तहजीब की रंगीन रंगोली
जैसे जैसे हो ईद में होली

मेरे जीवन की दशा
थोड़ा रास्तों का नशा
थोड़ी मंज़िल की प्यास है
बाकी सब फर्स्ट क्लास है
बाकी सब फर्स्ट क्लास है
बाकी सब फर्स्ट क्लास है
हाँ कसम से
बाकी सब फर्स्ट क्लास है, हाँ

Leave a Reply