Home / Bollywood / Lyrics – Nazm Nazm (Sumedha Karmahe Version) (Bareilly Ki Barfi)

Lyrics – Nazm Nazm (Sumedha Karmahe Version) (Bareilly Ki Barfi)

Song Lyrics: Nazm Nazm (Sumedha Karmahe Version) (Bareilly Ki Barfi)
Music Label: Zee Music Company

haaaannnn..

Tu nazm nazm sa mere, Honthon pe thehar ja…..Main khwab khwab sa teri, Aankhon me jaagun re

Tu ishq ishq sa mere, Rooh me aake bas ja…Jis aur teri shehnaai, Uss or main bhaagun re

Haath thaam le piya, Karte hain vaada…..Ab se tu aarzu, Tu hi hai iraada

Mera naam le piya, Main teri rubaai…..Teri hi to piche piche, Barsaat aayi, barsaat aayi

Tu itrr itrr sa mere, Saanson me bikhar jaa

Main faqeer tere qurbat ka, Tujhse tu maangun re

Tu ishq ishq sa mere, Rooh me aake bas ja

Jis aur teri shehnaai, Uss ore main bhaagun re

Tu nazm nazm sa mere, Honthon pe thehar ja…..Main khwab khwab sa teri, Aankhon me jaagun re…….

Mere dil ke lifaafe me

Tera khat hai janiya…..Tera khat hai janiya

Nacheez ne kaise paa li…..Kismat yeh janiya ve

Oh Mere dil ke lifaafe me

Tera khat hai janiya…..Tera khat hai janiya

Nacheez ne kaise paa li…..jaanat ye janiya ve

Tu nazm nazm sa mere, Honthon pe thehar ja…..Main khwab khwab sa teri, Aankhon me jaagun re…….

Tu ishq ishq sa mere, Rooh me aake bas ja…Jis aur teri shehnaai, Uss or main bhaagun re

haannnn….haan…..

 

(In HIndi)

हाँ…हाँ…

तू नज़्म नज़्म सा मेरे, होंठों पे ठहर जा…मैं ख्वाब ख्वाब सा तेरी, आँखों में जागूँ रे….

तू इश्क़ इश्क़ सा मेरे, रूह में आके बस जा….जिस और तेरी शहनाई, उस और मैं भागूं रे

हाथ थाम ले पिया, करते हैं वादा…….अब से तू आरज़ू, तू ही है इरादा

मेरा नाम ले पिया, मैं तेरी रुबाई………तेरी ही तो पीछे पीछे, बरसात आयी, बरसात आयी

तू इत्र इत्र सा मेरे, साँसों में बिखर जा……मैं फ़क़ीर तेरे क़ुरबत का, तझसे तू माँगूँ रे

तू इश्क़ इश्क़ सा मेरे, रूह में आके बस जा………जिस और तेरी शहनाई, उस और मैं भागूं रे

तू नज़्म नज़्म सा मेरे, होंठों पे ठहर जा…..मैं ख्वाब ख्वाब सा तेरी, आँखों में जागूँ रे….

मेरे दिल के लिफ़ाफ़े में…..तेरे खत है जाणिया…तेरे खत है जाणिया

नाचीज़ ने कैसे पा ली, किस्मत ये जाणिया वे…

ओ….मेरे दिल के लिफ़ाफ़े में……..तेरे खत है जाणिया…तेरे खत है जाणिया

नाचीज़ ने कैसे पा ली, जन्नत ये जाणिया वे..

तू नज़्म नज़्म सा मेरे, होंठों पे ठहर जा…..मैं ख्वाब ख्वाब सा तेरी, आँखों में जागूँ रे…

तू इश्क़ इश्क़ सा मेरे, रूह में आके बस जा….जिस और तेरी शहनाई, उस और मैं भागूं रे

हाँ…हाँ…