Lyrics – Safar (Jab Harry Met Sejal)

Song: Safar (Jab Harry Met Sejal)

Singer: Arijit Singh, Pritam

Lyrics: Irshad Kamil

Music: Pritam

Film Directed by: Imtiaz Ali

Movie: Jab Harry Met Sejal

Ab na mujhko yaad beeta, Main toh lamhon mein jeeta

Chala ja raha hoon, Main kahaan pe ja raha hoon…….Kahaan hoon?

Iss yaqeen se main yahan hoon, Ki zamana ye bhala hai

Aur jo raah me mila hai, Thodi door jo chala hai

Woh bhi aadmi bhala tha, Pata tha…Zara bas khafa tha…

Wo bhatka sa raahi mere gaanv ka hi, Wo rasta puraana jisey yaad aana

Zaroori tha lekin jo roya mere bin, Wo ek mera ghar tha, Puraana sa darr tha

Magar ab na main apne ghar ka raha, Safar ka hi tha main safar ka raha

Idhar ka hi hoon na udhar ka raha, Safar ka hi tha main safar ka raha

Idhar ka hi hoon na udhar ka raha, Safar ka hi tha main safar ka raha

Main raha… o o… Main raha… wo o… Main raha…

Meel pattharon se meri dosti hai, Chaal meri kya hai raah jaanti hai

Jaane rozana… zamana wohi rozana

Shehar shehar fursaton ko bechta hoon, Khaali haath jaata khaali laut’ta hoon

Aise rozana.. rozana khud se begana…

Jabse gaanv se main shehar hua, Itna kadva ho gaya ki zehar hua

Main to rozana, Na chaaha tha ye ho jaana maine

Ye umrr, waqt, raasta.. guzarta raha…., Safar ka hi tha main safar ka raha

Idhar ka hi hoon na udhar ka raha, Safar ka hi tha main safar ka raha

Idhar ka hi hoon na udhar ka raha, Safar ka hi tha main safar ka raha

Main raha… o o… Main raha… wo o… Main raha…

Safar ka hi tha main safar ka raha

(In Hindi)

अब न मुझको याद बीता, मै तो लम्हों में जीता

चला जा रहा हूँ, मैं कहाँ पे जा रहा हूँ…….कहाँ हूँ

इस यकीन से मै यहां हूँ कि ज़माना ये भला है

और जो राह में मिला है, थोड़ी दूर जो चला है

वो भी आदमी भला था, पता था…ज़रा बस खफा था…..

वो भटका सा रही मेरे गाँव का ही, वो रस्ता पुराना जिसे याद आना

ज़रूरी था लेकिन जो रोया मेरे बिन, वो एक मेरा घर था, पुराना सा डर था

मगर अब न मै अपने घर का रहा, सफर का ही था मै सफर का रहा

इधर का ही हूँ न उधर का रहा, सफर का ही था मै सफर का रहा

इधर का ही हूँ न उधर का रहा, सफर का ही था मै सफर का रहा

मैं रहा…..ओ…मैं रहा…वो ओ …मैं रहा……….

मील पत्थरों से मेरी दोस्ती है, चाल मेरी क्या है राह जानती है, जाने रोज़ाना….ज़माना वोही रोज़ाना

शहर शहर फुर्सतों का बेचता हूँ, खाली हाथ जाता खली लौटता हूँ, ऐसे रोजाना….रोज़ाना खुद से बेगाना

जबसे गाँव से मै शहर हुआ, इतना कड़वा हो गया कि ज़हर हुआ, मै तो रोज़ाना, न चाहा था ये हो जाना मैंने

ये उम्र, वक़्त, रास्ता…गुज़रता रहा…सफर का ही था मै सफर का रहा

इधर का ही हूँ न उधर का रहा, सफर का ही था मै सफर का रहा

इधर का ही हूँ न उधर का रहा, सफर का ही था मै सफर का रहा

मै रहा……………………………………………

सफर का ही था मै सफर का रहा